नई पंचायत सरकार से लोगों को विकास की उम्मीद !

1269
नव निर्वाचित मुखिया

मधेपुरा/चौसा(संजय कुमार सुमन):चौसा प्रखंड में हुए पंचायत चुनाव के बाद परिणाम की घोषणा के साथ ही स्थानीय सरकार के चयन की प्रक्रिया पूर्ण हो गयी है। मतदाताओं को अपने वोटरों से काफी आशा और उम्मीदें हैं। इसका नजारा चुनाव के दौरान भी दिखा जब लोगों ने उत्साह के साथ चुनाव में हिस्सा लिया। महात्मा गांधी वास्तविक लोकतंत्र स्थानीय ग्राम सभाओं में देखते थे। इसलिए उन्होंने ग्रामसभा को मजबूत करने की बात कही थी। जाहिर है लोगों को भी स्थानीय प्रतिनिधि से अधिक उम्मीद है।WhatsApp-Image-20160606 (2)

इसलिए चुनावों में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया और मतदान का प्रतिशत 76 फीसदी से उपर पहुंच गया। महिलाओं ने भी बढ़ -चढ़ कर हिस्सा लिया। तीन दिनों के मतगणना के बाद उनके निर्वाचित उम्मीदवारों की घोषणा हो चुकी है। आरक्षण का लाभ उठाकर बड़ी संख्या में महिलाएं भी चयनित हुईं। एक तरफ निर्वाचित उम्मीदवारों और समर्थकों के बीच जश्न का माहौल है। दूसरी ओर आम मतदाता अपने नये प्रतिनिधियों को काफी आशा भरी निगाहों से देख रहे हैं। इसका कारण ये है कि उन्होंने अधिकांश जगहों पर नये चेहरों पर दाव लगाया है। साफ तौर पर मतदाताओं ने ऐसे उम्मीदवारों को खारिज कर दिया जो पिछली बार उनके उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे। चौसा से 13 पंचायतों में मुखिया पद के लिए 12 नये चहरे जीत कर आये हैं। साफ है मतदाताओं ने नकारे प्रतिनिधियों के खिलाफ वोट करने में जरा भी गुरेज नहीं किया। जनता निर्वाचित प्रतिनिधियों से काफी अपेक्षा और उम्मीद भी रखती है।

WhatsApp-Image-20160606 (3)

मालूम हो कि चौसा पूर्वी से कुमारी माला लगातर तीसरी वार चुनाव जीत आई हैं। जब कि शेष 12 पंचायत यथा चौसा पश्चिमी से रूबी देवी,घोषई से सुनील यादव,रसलपुर धुरिया से सुनीला देवी,पैना से बीवी इसरत,चिरौरी से किरण देवी,मोरसंडा से विद्यानंद पासवान,फुलौत पूर्वी से बबलू ऋषिदेव,फुलौत पश्चिमी से पंकज कुमार मेहता,लौआलगान पूर्वी से नाजरा बेगम,लौआलगान पश्चिमी से संतोष साह,अरजपुर पूर्वी से रिंकू कुमारी,और अरजपुर पश्चिमी से सरिता सुमन नये मुखिया के रुप में चुनाव जीत कर आये हैं। फुलौत के शहंशाह कैफ,अजगैवा की अंजनी कुमारी,गुड़िया कुमारी से जब पूछा गया कि जश्न का माहौल है ऐसे में उनका सोचना क्या है। उनका कहना था कि उनके लिए जश्न तब होगा जब निर्वाचित प्रतिनिधि उनके मापदंड पर खरे उतरे। लोगों को लाल कार्ड पर राशन और फसल की अच्छी कीमत मिलनी चाहिए। गांव में शौचालय की दिक्कत है वे उम्मीद करते हैं उनकी इन समस्याओं का निदान होगा।मोरसंडा की निशा देवी,पूजा देवी कहती है कि उम्मीदवार तो जीत गये अब वे विकास करें। विकास किस तरह का चाहिए इस पर उन्होने कहा कि उनके गांव में हाई स्कूल नहीं है।

WhatsApp-Image-20160606 (1)

गांव में शौचालय, राशन, बिजली, फसल की उचित कीमत आदि बुनियादी जरुरत की बात सभी लोग करते नजर आये। कई पंचायत के लोग स्वच्छ पेयजल की समस्या के बारे में कहा। सुलेखा देवी ने कहा कि इलाज और सिंचाई की सुविधा बढ़नी चाहिए। लड़कियों की शादी के लिए सामाजिक स्तर इंतजाम की बात भी कई महिलाओं ने कही। जाहिर है लोग काफी उम्मीदें पाले हैं। लोग बुनियादी जरुरत की बात ज्यादा कर रहे हैं। उन्हें आने वाले समय में जनता की समस्या को हल करने की दिशा ठोस पहल करनी होगी।