हम नहीं सुधरेंगे : क्या स्वास्थ प्रबंधक के तबादला के बाद होगी निष्पक्ष जांच ?

1268
शनिवार को बंद पड़ा आफिस व जांच पैथोलेब।

सहरसा/सिमरी बख्तियारपुर (ब्रजेश भारती) :कल चमन था आज उजरा अशियाना की तर्ज पर शनिवार को सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडलीय अस्पताल का नाजारा देखने को मिला। आडीडीएच के शुक्रवार को निरक्षण में आने की सुचना पर अस्पताल परिषर से लेकर आसपास साफ सफाई की व्यवस्था चकाचक नजर आ रही थी वही सभी विभाग के कार्यालय कर्मी से लेकर अपने अपने कार्य में मुस्तैद नजर आते दिखे वही शनिवार का नाजारा साफ उलटा दिया पैथोलेब से लेकर जांच नमुना संग्रह,स्टोर सहित सभी कार्यालय में ताला लटका होने के साथ कर्मी गायब दिखे। कोशी तटबंध के अंदर से आये रधिया देवी,मुन्नी देवी ने बताया कि कल भी आये थे कल सब कुछ तुरंत हो रहा था आज कोई पुछने वाला भी नजर नही आ रहा है काश कल जो बाबू आये थे प्रत्येक दिन आते तो हमलोगो का भला होता।

सेवानिवृत स्टोर किपर पर क्या होगी कार्यवाही…..

एक्सपायरी दवा मामले का बाजार गर्म :-
एक्सपायरी दवाई कांड मे आखिरकार पहली कार्यवाई हुई है.जानकारी मुताबिक सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडलीय अस्पताल के स्वास्थ्य प्रबंधक विजय कुमार यादव का तबादला कर दिया है.बताया जा रहा है की दवाई कांड की जांच निष्पक्ष तरीके से हो इसलिए यह कार्यवाई की गई.हालाँकि, स्वास्थ्य विभाग खुले तौर पर इसे रूटीन तबादला बता पल्ला झाड़ रहा है परन्तु सूत्रों से मिली जानकारी मुताबिक दवाई कांड मे जांच प्रभावित ना हो इसलिए विजय कुमार का ट्रांसफर किया गया है.जानकारी मुताबिक एक्सपायरी दवाई कांड से चर्चा मे आये स्वास्थ्य प्रबन्धक विजय कुमार यादव 17 अप्रेल 2007 से ही सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडलीय अस्पताल मे जमे थे.वही विजय कुमार की जगह परीक्षित कुमार को सिमरी बख्तियारपुर अनुमंडलीय अस्पताल मे स्वास्थ्य प्रबंधक के रूप मे पदस्थापित होने का आदेश दिया गया है.वही विजय कुमार को चौबीस घंटे के अंदर बनमा इटहरी पीएचसी मे योगदान देने को कहा गया है।जानकारो का कहना है कि अगर इस मामले की सही जांच हो गई तो कई ओर लोग इस में फंस सकते है।