पंचायत चुनाव : संशय में मतदाता व प्रत्याशी !

1504

मधेपुरा/चौसा(संजय कुमार सुमन): नौवें चरण के तहत आगामी 26मई को चौसा में पंचायत चुनाव है।चुनाव में अब कुछ ही दिन शेष बचे हैं। पंचायत चुनाव अन्य सभी चुनाव से काफी टफ है। कारण इसमें न तो कोई दल होता है और न तो चुनावी सभा। किस प्रत्याशी को मतदाता अपना वहुमूल्य वोट देगा इसका सहित गणित प्रत्याशी को पता नहीं चल पाता है। मतदाता के घर वोट मागने के लिए जाने वाले सभी प्रत्याशियों को वोट देने का वादा मतदाता कर रहे है। तो क्या एक वोटर किसको-किसको वोट देगा। इस कठिन समीकरण के मंथन में प्रत्याशियों का सिर चकराने लगा है।

चुनाव का समय जैसे-जैसे कम होते जा रहा है, वैसे-वैसे प्रत्याशी संग समर्थक मतदाताओं को पटाने में लग गए है। मतदाता हर एक प्रत्याशी को घर के दरवाजे से दु:खी नहीं करके भेज रहे है।चौसा प्रखंड में 13पंचायत है। सभी पंचायत से जिला परिषद, मुखिया, सरपंच, पंचायत समिति, वार्ड और पंच पद के लिए उम्मीदवारों का घमासान है। एक अकेला वोटर के पास सारे प्रत्याशी वोट मागने के लिए जा रहे है। इस दुविधा के समय में मतदाता किसे न कहे। यह अच्छी बात नहीं होती। इसी संस्कारी सोच के साथ मतदाता प्रत्याशियों के उम्मीदों को तरोताजा रखने के लिए मजबूरन झुठ का सहारा लेना पड़ रहा है। चुनावी मैदान में खड़े सभी प्रत्याशी इस बातों से बखुबी अवगत है कि कोई एक हीं जीतेगा। लेकिन प्रयास करने में क्या जाता है। पूर्व के वैसे प्रत्याशी जिन्होने उपरोक्त पदों का स्वाद चख रखा है, वे हर हाल में सीट को जीतने के प्रयास में लगा है। मतदाता को पटाने के लिए प्रत्याशी सभी हथकंडो का प्रयोग धड़ल्ले से करं रहे है। सभी प्रत्याशियों को वोट देने की मतदाताओं का समझदारी वाली बादो से प्रत्याशी का मन चकराने लगा है।