मतदान केन्द्र बदलने कि मांग को लेकर सड़क जाम !

1475
रंगीनियां-बनमा सडक मार्ग पर पहलाम चैक के पास बांस बल्ली से सडक जाम करते मतदाता।

सहरसा/ सिमरी बख्तियारपुर (ब्रजेश भारती) :  मंगलवार को बनमा ईटहरी प्रखंड क्षेत्र अंतगर्त धोडदौड पंचायत के सुबहानाबाद गांव के दो दर्जन से भी अधिक मतदाताओं ने रंगीनियां-बनमा मुख्य सडक मार्ग स्थित पहलाम चैक के समीप सडक को बांस-बल्ली से जाम कर मतदान केन्द्र बदले जाने के विरोध में बीडीओ के खिलाफ नारेबाजी करते करीब चार धंटे तक यातायात बाधित कर जमकर प्रदर्शन किया गया। सडक जाम कर रहे मतदाता मतदान केन्द्र बदले जाने की मांग कर रहे थे।

चुनाव तक नहीं बदले जाने पर इससे भी ज्यादा आक्रोशित प्रदर्शन करने का घमकी दे रहे थे….
सडक जाम कर रहे मतदाता मो सरफराज आलम, मो ओवेद आलम, मो सफदर, मो हासिम, मो जाहिद, मो अमीर उद्दीन, मो इसराईल, शमशाद, मो सरबर आलम, मो नसीम उद्दीन, मो शाहिद मुस्तफा, मो मसूद, मो हैदर अली, मो मुरतुजा, मनौव्वर आलम, मो रजी अहमद, अब्दुल वदुद, दाउद आलम सहित अन्य मतदाताओं ने बताया कि हमलोग वार्ड नं0 -6 के वासी हैं। हमारे वार्ड में सरकारी भवन नवसृजित प्राथमिक विद्यालय सुबहानाबाद रहने के उपरान्त भी हमलोगों का मतदान केन्द्र बरपोखरिया में कर दिया गया है। जो कि यह मतदान केन्द्र हमारे गांव से करीब 4 से 5 किलोमीटर की दूरी पर है। हम मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए कुछ लोगों के साजिश से केन्द्र बदल दिया गया है। जबकि जहां केन्द्र बनाया गया है वहां पर जाने व आने का सडक ही नहीं है। सडक नहीं रहने व दूरी के कारण वृद्ध, बीमार वो लाचार मतदाता को मतदान केन्द्र तक पहुंचने में काफी कठिनाईयों का सामना करना पडेगा। उस मतदान केन्द्र पर पूर्व के मतदान समय में गोलीबारी व मारपीट हो चुकी है। वहां का नाम सुनते ही मतदाताओं में काफी भय का माहौल अभी से ही हो गया है। हमलोगों के द्वारा कई बार बीडीओ सहित अन्य संबंधित पदाधिकारी को इस संबंध में आवेदन दिया गया। मगर कोई सामाधान अब तक नहीं निकल पाया। इससे स्पष्ट होता है कि बीडीओ की गलत मंशा है। हमलोगों का गांव के ही स्कूल में मतदान केन्द्र बनाया जाए ताकि हमलोगों को मतदान केन्द्र तक पहुंचने में सहुलियत व सुरक्षित महसूस हो।
इधर मतदाताओं के द्वारा सुबह के दस बजे के आसपास से ही सडक को जाम कर दिया गया था फिर भी दोपहर बाद करीब साढे तीन बजे के आसपास तक कोई पदाधिकारी नहीं पहुंच पाये। जिससे मतदाताओं में ओर भी ज्यादा आक्रोश देखा गया।
इस संबंध में बीडीओ नूतन कुमारी ने बतायी कि अब चुनाव सामने में है इसलिए मतदान केन्द्र को बदल पाना मुश्किल है। कुछ भी करने से अब केन्द्र को नहीं बदला जा सकता है।