सहरसा : पत्रकारों का रोषपूर्ण मार्च !

1530
धरना पर बैठे सहरसा के पत्रकार

सहरसा 🙁कुणाल किशोर) सीवान में पत्रकार राजदेव रंजन की गोली मार कर की गई हत्या से व्यथित और उद्वेलित सहरसा के पत्रकारों ने कलेक्ट्रेट मार्च किया | प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मिडिया कर्मियों ने कलेक्ट्रेट गेट पर नारेबाजी करते हुए धरना दिया |पत्रकारों का शिष्टमंडल जिलाधिकारी बिनोद सिंह गुंजियाल से मिलकर  मुख्यमंत्री के नाम सम्बोधित चार सूत्री मांगो का ज्ञापन सौपा गया |

1054597761336095_3785738056027454109_n

पत्रकारों की मांगो में हत्यारों को गिरफ्तार कर फांसी देने,मृतक परिवार के परिजन को 50 लाख रु० मुआवजा उनके पुत्र को सरकारी नौकरी,जिले के पत्रकारों को हथियार का लाइसेंस व सुरक्षा की गारंटी और हत्या या मौत की स्थिति में परिजनों को सरकार द्वारा पर्याप्त धन राशि और सरकारी नौकरी दिए जाने आदि शामिल है | कलेक्ट्रेट मार्च में हिंदुस्तान,दैनिक जागरण,प्रभात खबर,राष्ट्रीय सहारा,सोनभद्र,पंजाब केशरी के सहरसा प्रभारी सहित प्रिंट मिडिया के पत्रकार रमण ठाकुर,आलोक झा, अमेन्द्र कान्त,कुंदन कुमार,राजन,रंजीत,विष्णुस्वरूप,नीरज,मयंक,प्रांजल सुमन,कुमार आशीष,अभय मनोज,श्रुतिकांत,मनोज सहारा,अजय सिमरी,राजेश सिमरी,पप्पु सिंह,अनुज व इलेक्ट्रॉनिक मिडिया के मुकेश सिंह,धीरज सिंह(आज तक)पियूष मिश्रा,नीरज सिंह,मनोज ठाकुर,कुमार अनुभव,पंकज सिंह,राजीव झा,सिदार्थ शंकर,आनंद झा,अमित अमर,छायाकार राज किशोर,दिनेश,तेजस्वी ठाकुर (तापमान)सहित जिले के प्रखंडो के पत्रकार ने भाग लिया |