पंचायत चुनाव : हार जीत का जोड़-घटाव शुरू !

सुपौल/छातापुर (संतोष  कुमार  भगत / रवि रौशन) । त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आते जा रही है। प्रत्याशियों में गजब की बैचैनी देखा जा रहा है। कारण मतदाता मतदान किसे देगे इसे उजागर करने में चुप्पी साधे है। फिर भी प्रत्याशियों द्वारा मतदाताओं को अपने  पक्ष  में वोट  करने का प्रयास तेज कर दिया है। मतदाता कर्मठ और सुयोग्य उम्मीदवार की चाहत को रखते हुए चुनाव में खड़े प्रत्याशी में सबसे अच्छा कौन रहेगा। इसका मंथन किया जा रहा है। किस मतदाता को कैसे मनाना है ,वो सारी प्रक्रिया प्रत्याशी प्रयोग में लाने लगे है।

पंचायत चुनाव को लोकसभा और विधानसभा से हटकर आंका जा रहा है। पंचायत के लिए कैसा प्रत्याशी सही होगा, इसे ढूंढ निकालना मतदाताओं के लिए लोहे के चना चबाने के बराबर साबित हो जाता है। चुनाव में खड़े प्रत्याशी मतदाताओं के समक्ष अपने आप को एक दूसरे से गुणवान, सुयोग्य, कर्मठ, शिक्षित और चरित्रवान साबित करने में लगे है। सबसे जानदार मुकाबला जिला पार्षद, मुखिया और पंचायत समिति में देखने को मिल रहा है।इन दिनो शादी-विवाह में प्रत्याशियों को मतदाताओं द्वारा निमंत्रण मिला रहा है। वहा प्रत्याशी जाना नहीं भूल रहे है। साथ ही निमंत्रण में पहुचें लोगों से मिलकर चुनाव की बाते को तरोताजा कर रहे है। अभी तो मतदाता के पास ऐसी स्थिति है कि एक प्रत्याशी को बुला रहे है, तो दस पहुंच रहे है। प्रत्याशी मतदाता को बैलेट पेपर के नमुने को काफी घ्यान देकर बता रहे है कि मेरा चुनाव चिन्ह ये है जो इतने नम्बर पर है।