मतदाता सुची में बड़े पैमाने पर धांधली मामला बनाम-ईटहरी प्रखंड के सरबैला पंचायत का !

सिमरी बख्तियारपुर (Brajesh Bharti)अनुमंडल के बनमा-ईटहरी प्रखंड के सरबैला पंचायत में बीएलओ के द्वारा पंचायत चुनाव में फर्जी नाम मतदाता सूची में नाम जोड़े जाने का नया मामला प्रकाश में आया है। पंचायत मतदाता सूची मे ऐसे-ऐसे लोगो का नाम है जो इस प्रखंड की बात तो दूर इस जिले का भी निवासी नही हैं। पंचायत निवासी मो तोकीरूल हसन ने अनुमंडल पदाधिकारी सिमरी बख्यितारपुर, जिला पदाधिकारी एवं राज्य निर्वाचन आयोग को इस संबंध में आवेदन प्रेषित कर बीएलओ के द्वारा की गई फर्जीवाडें की जांच करने कि मांग किया है। दिये गये आवेदन में कहा गया है कि प्रादेषिक निर्वाचन क्षेत्र संख्या 13 के मतदाता सूची मे एक ही ऐसे परिवार के सदस्यांे के दोबारा नाम, जाली नाम, एवं मृत व्यक्ति का नाम जोडा गया ताकि चुनाव में एक विषेश को फायदा हो सकें। एक व्यक्ति के बने है दो-दो आईडी- इस पंचायत के मतदाता सूची में नियमांे की धज्जिया उड़ाते हुए बीएलआंे के कारनामंे से एक ही व्यक्ति के दो-तीन नामों से मतदाता पहचान पत्र निर्गत है। उदाहरण के लिये मो इसरार अहमद एवं मो इसरार अहमद कादरी एक ही व्यकित हैं लेकिन दो आईडी बना हुआ हैं,दुसरा मामला गुलाम सरबर फरीदी का है ये सरबेला पंचायत के निर्वतमान मुखिया के पति है इनके नाम भी दो आईडी निर्गत है,सैयदा खातुन (दो आईडी),(अशहर फरीदी) तीन आईडी,कई मृत व्यक्तियो के नाम है साथ ही कई इस पंचायत का रहने वाला ही नही है।

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

क्या कहती है बीडीओ– बीडीओ नूतन कुमारी ने बतायी कि जिन लोगो के नाम से दो आई डी निर्गत है उनका विलोपन के लिये दिया गया था लेकिन विलोपित नही हो सका। अब पंचायत चुनाव के बाद डबल आई वाले नाम का विलोपित करने की प्रक्रिया किया जायेगा। वही वेसे फर्जी मतदाता जिनका नाम सरबेला पंचायत में है चिन्हित कर उसे मतदान करने एव ंबोगस वोटिंग करने से रोका जायेगा। पीठासीन को इन फर्जी नाम को चिन्हित कर मतदाता सूची दिया जायेगा।

क्या कहते है एसडीओ– अनुमंडल पदाधिकारी सुमन प्रसाद साह ने बताया कि दूसरे पंचायत के लोगो का नाम मतदाता सूची में चढाना, एक ही व्यक्ति के नाम से दो मतदाता पहचान पत्र निर्गत होना ये दर्शाता है कि बीएलओ ने जानबुझकर किसी व्यक्ति विषेश को लाभ पहुचाने के उदेष्य से किया है। इनकी जांच की जायेगी अगर मामला सही निकला तो पहले तो बीएलओ पर ही कारवाई कि जायेगी उसके बाद उस व्यक्ति पर भी कार्यवाही कि जायेगीं।