कही पानी के लिए हाहाकार,तो कही पानी कि बर्बादी !

902

कटिहार-(Syead Shadab Alam)  इस भीषण गर्मी में जहाँ एक और पानी के लिए पुरा भारत परेशान है और महज अप्रैल माह में  भीषण गर्मी पड़ने से  तापमान मे रिकॉर्ड तोड़ बढोतरी हुयी है वही  बिहार के कटिहार जहा जीवन दायनी गंगा बहती है अपना अस्तित्व खोने के कगार पर चली गयी है इसका मुख्य कारण पानी का बर्वाद होना भी है |
कटिहार शहर के बीचो बीच करोड़ो रूपये की लागत से बनी PHD विभाग दुवारा जल मीनार बनाया गया था जिससे आम जानो को साफ स्वच्छ पानी मुहेया कराया जाय और लोगो को  तपती गरमी मे पानी की कमी महसूस नहीं हो लेकिन विभाग आम जनो तक पानी नहीं देकर सडको पर बहने दिया जा रहा है |

 अरमानो  पर पानी फेर रहा है …

received_

वही देश के प्रधान  और  बिहार के मुखिया नितीश कुमार पानी को बचने की  बात करते है लेकिन PHD विभाग के किसी के अधिकारी के कान तक बात नहीं पहुची है क्यों की PHD विभाग के बगल में पानी को बर्वाद किया जा रहा है
वही जब कटिहार के जिला अधिकारी से इस मामले को लेकर  बात की तो उन्होंने कहा की आप लोगो के दुवारा जानकारी दीगयी है उसको जल्द ठीक करवाउगा और ग्रामीण छेत्रो मे जो जल मीनार चालू किया गया है वो सही से कामनहीं कर रहा है उसको भी ठीक करवाएगे
चील चिलाती गर्मी मे PHD विभाग दुवारा पानी की बर्वादी रोकने के लिए कितना कारगर कदम उठाती है ये तो आने वाला समय बतायेगा या योही राजनेता की तरह  अधिकारी का भी बयान भर रह्जायेगा