देशद्रोही जो कोई हो वैसे लोगों का गर्दन नहीँ टेटुआ दबा देना चाहिए !

790

कन्हैया के पिछे अब किसी को दिमाग नहीँ लगाना चाहिए ऐसा मैँ इसलिए कह रहा हुँ की कन्हैया खुद सस्ती लोकप्रियता के लिए झुठ का सहारा लेकर अपना गर्दन खुद दबाने का झुठा इल्ज़ाम लगाना शुरु कर दिया है इस झुठी घटना ने इतना तो साबित जरुर कर दिया है की कन्हैया कुमार किसी को भी बदनाम करने के लिए कुछ भी हरकत कर सकता है इसलिए देश की जनता से अपिल करता हुँ कि कन्हैया कुमार को अपने जेहन से निकाल देना चाहिए ताकी कन्हैया अपनी औकात समझ सके जो कन्हैया कुमार खुद समझने भी लगा है |अब शायद कन्हैया कुमार का चर्चा धीरे धीरे खत्म हो रहा है इसलिए पुन: चर्चा मेँ आने केलिए एक शख्स पर गर्दन दबाने का झुठा इल्ज़ाम हवाई जहाज में  लगा कर चर्चा मेँ बने रहने केलिए झुठ का सहारा लिया ,मुझे तो ऐसा लग रहा है देशद्रोही जो कोई हो वैसे लोग को गर्दन नहीँ टेटुआ दबा देनी चाहिए चाहे वह कोई भी देशद्रोही हो देश को बदनाम कर कभी अपना नाम रौशन नहीँ किया जा सकता देश के लिए कुर्बानी देने की कुव्वत तो है नहीँ पर अपने आपको भगत सिँह भी किसी दुसरे के मुह से जबर्दस्ती कहलवाने का जुगाङ आखिर कार ढुंड ही लिया था कन्हैया |आखिर कन्हैया कुमार को लोग इतना बङा हौवा क्योँ बना दिया ये समझ से पङे है कन्हैया जैसे लोग को कुछ नेता आर्थिक मदद देकर किया साबित करना चाहते हैँ मैँ वैसे कन्हैया को आर्थिक मदद देने वाले नेता से कहना चाहता हुँ काश आप कन्हैया को आर्थिक मदद ना देकर उसी पैसे को गरीब जनता की मदद कर दिये होते तो आज आपका जय जयकार होता पर आपतो ऐसा करेँगे नहीँ क्योँकि बली का बकरा आर्थिक मदद देकर जो आप कन्हैया को बनाने मेँ लगे हैँ खैर आप भले आर्थिक मदद चुप चोरी देकर करते रहेँ पर एक वक्त आएगा जब देश की जनता कन्हैया से ज्यादा आपको दोषी ठहराएगी देखलेना ।

 (इफ्फतुर रहमान बेगूसराय के फेसबुक पेज से )