युवक के गले के आर-पार हुआ कचिया !

2753

(koshixpress डेस्क ) नितीश  के गले से आर-पार था हसिया,न निकाल सकता था और न खुद लेट सकता था। शरीर से खून तेजी से निकल रहा था और मौत उसके करीब आ रही थी। ऐसे में एक डॉक्टर फरिश्ता बनकर आया और उसकी जान बचा ली। यह घटना बिहार के बेगूसराय की है। गुरुवार को डॉक्टर ने 2 घंटे तक ऑपरेशन कर एक युवक की जान बचाई। घास काटने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला हसुआ उसके गले के आर-पार हो गया था। डॉक्टर ने ऑपरेशन कर हसुआ को गर्दन से निकाल दिया और युवक की जान बचा ली।घटना बेगूसराय जिले के बखरी थाना इलाके के सोनमा गांव की है।नीतीश गुरुवार को डाली काटने के लिए पेड़ पर चढ़ा था। इस दौरान पेड़ की टहनी टूट गई और वह नीचे गिर पड़ा। नीतीश जहां गिरा वहां पहले से एक हसुआ पड़ा था। वह हसुआ पर गिरा और हंसुआ उसके गले के आर-पार हो गया।गले में हसुआ घुसते ही नीतीश के शरीर से काफी तेजी से खून निकलने लगा।

अस्पताल में भर्ती नितीश
अस्पताल में भर्ती नितीश

बेगुसराय के बखरी की घटना :
परिजन तुरंत उसे बेगूसराय में स्थित एक निजी क्लिनिक में ले गए। डॉ.संजय कुमार ने नीतीश को देखते ही ऑपरेशन करने का फैसला लिया।संजय ने कहा कि पेशेंट के शरीर से तेजी से खून निकल रहा था।डॉक्टर ने कहा कि नीतीश की हालत देख मैं भी डर गया था लगता था इसकी जान बच पाएगी या नहीं।संजय ने कहा कि हसुआ निकालने के लिए पहले उसके बेस को काटा गया। इसके बाद हसुआ निकाल दिया गया।हसुआ निकालने के बाद छतिग्रस्त वेन्स और नर्वस को ठीक किया गया।अधिक खून निकलने से मरीज का ब्लड प्रेशर लो हो गया था। उसे ब्लड प्रेशर बढ़ाने वाली दवाएं दी गईं।डॉक्टर ने कहा कि काफी खून बह जाने के कारण नीतीश की हालत अब भी नाजुक बनी हुई है और अभी उसे दवा के साथ ही दुआ की भी जरूरत है।

पत्रकार Dharmendra Singh के फेसबुक पेज से ….