शिक्षक प्रशिक्षण: चार दिवसीय प्रशिक्षण एक दिन में खत्म !

1318

koshi

बीईओं को मामूल नही कौन सा प्रशिक्षण दिया जा रहा हैं।
सहरसा- अनुमंडल क्षेत्र अंतगर्त बनमा ईटहरी प्रखंड में शिक्षा विभाग की राशि जिसको मन होता है वही डकार लेता है। यहां ऐसा लगता है कि शिक्षा विभाग को कोई देखने वाला है ही नहीं। यानि कि भगवान भरोसे यहां पर शिक्षा विभाग का विभिन्न कार्य संचालित होता है। कुछ ऐसा ही देखने को मिला 29 मार्च मंगलवार को इस विभाग के तीन प्रशिक्षण केन्द्रों पर प्रशिक्षण देने का नाजारा। शिक्षा विभाग के जिला मुख्यालय कार्यालय से बनमा ईटहरी प्रखंड में शिक्षकों को चार दिवसीय गैर आवासीय उदभव शिक्षक प्रशिक्षण के लिए आदेश जारी किया गया। यह प्रशिक्षण 26 तारीख से 29 मार्च तक किया जाना था। उक्त जिला मुख्यालय के कार्यालय आदेश पर बनमा के शिक्षा पदाधिकारी ने शिक्षकों को प्रशिक्षण के लिए तीन प्रशिक्षण केन्द्र बनाया। जो कि मध्य विद्यालय सुगमा, मध्य विद्यालय ईटहरी एवं मध्य विद्यालय पहलाम को प्रशिक्षण केन्द्र बनाते हुए हर केन्द्र पर 30 शिक्षकों को प्रशिक्षण लेने के लिए सूची जारी की। जानकारी अनुसार इस प्रशिक्षण के लिए जिला मुख्यालय से करीब 27 हजार रूपैया की आवंटन किया गया। इसमें अब अहम बात यह है कि प्रशिक्षण लेने वाले शिक्षकों की उपस्थिति उक्त प्रशिक्षण केन्द्र पर 29 मार्च को यानि कि अंतिम दिन ही हुई। मतलब प्रशिक्षण के तीन दिन यूं ही कागज पर चली। इसके बाद जो भी शिक्षक अंतिम दिन आये वह भी यदा-कदा शिक्षक ही उपस्थित हो पाये। यानि कि हर केन्द्र पर 30 शिक्षकों की जगह 10 से 15 शिक्षक ही उपस्थित थे।मंगलवार को मध्य विद्यालय सुगमा प्रशिक्षण केन्द्र पर दिन के करीब पौने बारह बजे 8 से 10 की संख्या में शिक्षक उपस्थित थे जो कि बाहर में बैठ कर प्रशिक्षक का इंतजार कर रहे थे।koshi

दूसरा प्रशिक्षण केन्द्र मध्य विद्यालय ईटहरी में दिन के करीब सवा बारह बजे फर्स पर चादर ही बिछाया जा रहा था शिक्षकों को बैठने के लिए। यहां पर भी करीब-करीब वही शिक्षकों की उपस्थिति का हाल था। तीसरा केन्द्र मध्य विद्यालय पहलाम था जहां पर दोपहर बाद करीब पौने दो बजे भी मात्र 10 से 15 की संख्या में शिक्षक उपस्थित थे। मतलब जब शिक्षकों से इस प्रशिक्षण के बारे में पूछा गया तो शिक्षकों ने चैकाने वाला बात बताया। शिक्षकों ने नाम नहीं छापने के ऐवज में बताया कि 28 तारीख की रात में हमलोगों को मोबाइल पर सूचना मिली कि प्रशिक्षण है जिसमें आप का नाम शामिल किया गया है। वही कुछ शिक्षकों ने बताया कि आज ही यानि कि 29 तारीख को सूचना मिली कि आप लोगों का प्रशिक्षण है। इससे भी अहम बात यह है कि खुद शिक्षा विभाग के पदाधिकारी को भी नहीं पता है कि उसके क्षेत्रों में कौन सी प्रशिक्षण चल रही है। इस बारे में जब बीईओ मिथिलेष कुमार सिंह से पूछा गया तो उन्होनें बताया कि प्रशिक्षण तो चल रही है। यह प्रशिक्षण पल्लभ का है या उदभव का यह जानकारी प्राप्त कर बताते है। मतलब तीन दिन प्रशिक्षण कागज पर चली और अंतिम दिन जब प्रशिक्षण समाप्त हो रहे थे तो उसकी भी जानकारी पदाधिकारी को नहीं थे। यह हाल है बनमा ईटहरी प्रखंड शिक्षा विभाग का। अर्थात यहां पर सरकारी राशि कैसे डकारी जाती है यहां के पदाधिकारी से किसी को सीख लेना चाहिए।

श्रोत- पत्रकार  Brajesh Bharti के फेसबुक वाल से ….