सस्ती लोकप्रियता हासिल कर रहे है ओवैसी – लुकमान

2291
लुकमान अली (बीजेपी)

सहरसा- सोमबार को सांसद ओवैसी ने कहा था कि कोई मेरे गर्दन पर छुरी भी रख दे तो में भारत की जय नहीं बोलूँगा | इस मुद्दे पर भारतीय जनता युवा मोर्चा के बिहार प्रदेश कार्य समिति सदस्य मो० लुकमान अली ने सांसद ओवैसी द्दारा दिए गए बयान पर कड़ी आपति जताते हुए बयान की घोर निंदा की है | मो० लुकमान अली ने कहा की ओवैसी के दिए गए बयान से प्रतीत होता है की उसकी मानसिक स्तिथि सही नहीं है या सस्ती लोकप्रियता हासिल करने हेतु इस तरह का बयान दे रहे है जो कि उनकी ओछी मानसिकता को दर्शता है,श्री अली ने कहा कि ओवैसी अगर अपने आप को मुस्लिम का नेता मानते है तो मै पहले एक मुस्लिम होने के नाते यह बता दू की इस्लाम एकता का प्रतीक है और जो अपनों का सम्मान ना करे वाह मुसलमान नही हो सकता,जिस धरती पर हम पैदा हुए जिस मिटटी पर हमने बचपन में खेला एवं खड़ा होना सिखा वैसी धरती को मै नमन करता हूँ और एक बार नही हजार बार भारत माता की जय बोलने को तैयार हूँ,जयकारा उन सभी का लगना चाहिए जो समाजिक हित सहित भारत के हित में हो ,ओवैसी को जय और जिंदाबाद से उतना ही नफरत है तो वह अपने नाम का जयकारा अपने समर्थकों से ना लगावे | ओवैसी देश के सर्बोच सदन के सदस्य है और वह जो आज उस सदन में बैठते है तो वे सिर्फ एक ही समुदाय के लोगो से नही बल्कि सभी समुदाय के लोगो के कारण वे अपने आपको सांसद कहला रहे है |उनके इस बयान से उन्हें तो कुछ नहीं होगा लेकिन समाज के अन्दर आपसी भाईचारे में कुछ समय के लिए खटास आ जाएगी | ओवैसी जी मे आपको नसीहत देना चाहता की आप सच्चे मुसलमान हो तो आपको इस्लाम के हिसाब के चलना चाहिए | जयकारा या जिंदा बाद का नारा लगाना अगर गुनाह है तो उस ग्रंथ को दिखाबे, अन्यथा देश में अखंडता फ़ैलाने का काम बंद करे | भारत में ही रहकर आप अपने को सांसद कहला रहे है तो क्या जिस जमी पर आप पैदा हुए,खेले-कूदे पले-बढ़े तो क्या आपको भारत का जयकारा नही लगाना चाहिए,अगर आप नही लगा रहे हो तो आपसे बड़ा देशद्रोही और इस्लाम का दुश्मन कोई नहीं है | श्री अली ने कहा की आप हिंदुस्तान के लोगो से माफ़ी मांगे |(जारी प्रेस बयान के आधार पर )