हास्य कवि में सम्मेलन में जम कर हुआ तीखे व्यंग और कटाक्ष !

2966

हिंदुस्तान कवि सम्मेलन में लोट-पोट हुए दर्शक !

 


सहरसा- बुधवार की रात्रि सुपर बाज़ार स्थित संत लक्ष्मीनाथ गोसाई कला भवन देर रात तक तालियों और हंसी-ठहाको से गूंजता रहा | मौका था हिंदुस्तान दैनिक अख़बार के बैनर तले आयोजित हास्य कवि सम्मेलन का | इस हास्य कवि सम्मेलन में देश व राज्य के नामचीन कवि डॉ० विष्णु सक्सेना,युवा कवियत्री डॉ० भुवन मोहनी,शशिकांत यादव,मुकुल महान,रामबाबू सिकरवार,युवा कवि क्षितिज उमेन्द्र सहित अन्य कवियों ने अपनी कविता व गीतों से प्रशाल में मौजूद श्रोताओ को लोट-पोट व मंत्रमुग्ध कर संमा बांधे रखा

हिंदुस्तान अख़बार द्दारा आयोजित हास्य कवि सम्मेलन में राज्य,देश,महंगाई,अच्छे दिन,बहार हो सहित अभी के जे०एन०यु० मुद्दे पर तीखे व्यंग और कटाक्ष का दौर ने कार्यक्रम के अंत तक श्रोताओ को बांधे रखा और लोग हास्य कवि सम्मेलन में गोता लगाते हुए आनंद लेते रहे | खास कर अंत में आए डॉ० विष्णु सक्सेना के गीतों ने अलग ही जोश दर्शको में डाल दिया ….चांदनी रात में रंग ले हाँथ में,तुम हमारी कसम तोड़ दो,हम तुम्हारी कसम तोड़ दे,जिंदगी को नया मोड़ दो…….,

कार्यक्रम के समापन तक लोग वन्स मोर ,वन्स मोर करते दीखे | इस अबसर पर जिले के कई वरीय पधाधिकारी के अलावे शहर के गणमान्य बुद्धिजीवी,समाजसेवी,राजनितिक दलों के प्रतिनिधि,प्रिसद्ध चिकित्सकों सहित आम जनमानस मौजूद थे | वही हिंदुस्तान सहरसा के कार्यालय प्रभारी नवीन निशांत,प्रबंधक प्रमोद सिंह,आनंद मोहन,रंजीत,ज्ञानमूर्ति,महादेव सिंह,प्रदीप चौधरी,राजन सिंह,मंयक सहित हिंदुस्तान के सभी प्रतिनधि मोजूद रहे | इसके अलावे सदर थानाध्यक्ष संजय सिंह भी सुरक्षा व्यवस्था पर नजर रखे हुए थे |कार्यक्रम का उद्घाटन जिला पदाधिकारी बिनोद सिंह गुंजियाल सहित अन्य ने किया |

मंच पर कविता पाठ करते कवि विष्णु सक्सेना
मंच पर कविता पाठ करते कवि विष्णु सक्सेना