चर्चाओ मे रहना सगल है बी०एन०एम०यु० मधेपुरा का !

1110
चर्चाओ मे रहता विश्वविधालय

सहरसा -बिहार के  कोशी प्रमंडल का मधेपुरा सिर्फ कहने मात्र का जिला है यहाँ से रा०ज०द के राष्ट्रीय अध्यक्ष हो या ज०द०यु के शरद यादव या फिर पप्पू यादव सभी  मधेपुरा जिले का प्रतिनिधि कर चुके है या कर रहे है, फिर भी बिहार में मगध विश्वविधालय के बाद मधेपुरा का विश्वविद्यालय चर्चा का विषय बना रहता है ,भुपेन्द्र  नारायण मंडल विश्वविद्यालय में आउटसोर्सिंग पर हो रहे शिक्षकेत्तर कर्मचारियों की नियुक्ति के खिलाफ तथा अपने सेवा सामंजन जैसी मांगों को लेकर आज भी अस्थायी कर्मियों का अनिश्चितकालीन हड़ताल जारी रहा.
हड़ताल के कारण विश्वविद्यालय का काम काज ठप रहा,  जिसके कारण छात्रों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. अस्थायी कर्मियों द्वारा किए जा रहे हड़ताल से परेशान छात्र तथा अभिभावकों ने कहा कि  कुलपति डा. विनोद कुमार तथा कुलसचिव डा. कुमारेश कुमार विश्वविद्यालय के प्रति संवेदनशील नहीं हैं, यही कारण है कि हड़ताल के नौ दिन गुजर जाने के बाद भी अस्थायी कर्मचारियों की मांगों की दिशा में कोई सकारात्मक पहल नही किया जा रहा है, जिसके कारण छात्रों का भविष्य अंधकारमय हो गया है.पूर्णियां से आए इंजीनियरिंग के छात्र संतोष कुमार ने बताया कि मैं अपना प्रमाण-पत्र लेने आया हूं. विदेश जाने के लिए मुझे प्रमाण-पत्र जमा करना पड़ेगा, तत्पष्चात मुझे बाहर जाने की अनुमति मिलेगी, किंतु विश्वविद्यालय कर्मियों के बेमियादी हड़ताल पर रहने के कारण मैं इस अवसर से वंचित रह जाउंगा. छात्रों ने कहा कि ऐसी हालत बनी रही तो विश्वविद्यालय के खिलाफ छात्र तथा अभिभावक सड़क पर उतर जाऐंगे. उधर दूसरी ओर हड़ताल पर बैठे कर्मियों ने कहा कि जब तक हमलोगों की मांगे पूरी नहीं हो जाती तब तक हमलोग हड़ताल पर डटे रहेंगे.

मधेपुरा की खबरों को पढने के लिए click करे  http://www.madhepuratimes.com