अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता लोकतंत्र की खूबसुरती है …… चेतन आनंद

1006

सहरसा-जे०एन०यू०  को घटना का शोर दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है और यह मुद्दा कम होने का नाम नहीं ले रहा है |संसद हमले के साजिसकर्ता अफजल गुरु को शहीद बता कर जिस तरह कैम्पस में जो कुछ हुआ यह देश के लिए दुर्भाग्यपुर्ण घटना है ,उक्त बाते छात्र हम (से०) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चेतन आनंद ने जारी बयान में कहा है | युवा अध्यक्ष चेतन आनंद ने कहा की अगर केंद्र के पास इस संबंध में ठोस प्रमाण है तो उसे किसी विश्वविधालय का अध्यक्ष तो क्या देश का प्रसीडेंट भी क्यों न हो ऐसे राष्ट्र विरोधी हरकत के खिलाफ कारवाई करने से हिचकना नही चाहिय | कैम्पस के किसी भी कार्यक्रम में अगर अफजल हम शर्मिंदा है,कातिल तेरे जिंदा है और भारत के टुकड़े-टुकड़े होने तक जंग जारी रहेंगी के नारे के साथ पाकिस्तान का झंडा लहराया जाय यह घटना बर्दास्त के काबिल नहीं है |ऐसअ करने और सोचने वाले तत्व  के सौ टुकड़े कर दे तो कम है | युवा छात्र अध्यक्ष श्री आनंद ने जारी बयान में कहा की वोट बैंक और मुस्लिम तुस्टीकरण के नाम पर इस तरह की शर्मनाक हरकत करने की निंदा करते है ,इतिहास ग्बाह है की भारत के मुसलमान किसी से भी ज्यादा राष्ट्रभक्त है कुछ सेक्युलरवादियों की ओछी हरकत राजनीती के कारण ही हिन्दू चरमपंथियो को ताकत मुहैया कर रही है | जिस तरह घटना के विरोध के नाम पर किसी पार्टी कार्यलय,पत्रकाकरो,सहित पुलिस के अभिरक्षा में एक पक्ष के वकीलों द्दारा न्याययालय परिसर में आरोपी पर हमला किया गया यह सभी घटना जनतंत्र विरोधी घटना है और इस तरह की घटना पर भी सख्त  कारबाई की  जरूरत है,उन्होंने कहा की इस नाम पर हर किसी को राष्ट्र विरोधी गतिविधियों या उदंडता की छुट नहीं दी जा  सकती |