चिकित्सकों ने पैदल मार्च कर किया रोषपूर्ण प्रदर्शन !

1085
जिलाधिकारी से वार्ता करते डॉक्टर

सहरसा- चिकित्सको से रंगदारी मांगने के मामले में आज आईएमए के बैनर तले जिले के चिकित्सको  सहित आई०एम०ए० से जुड़े शहर के तमाम डॉक्टर कानून ब्यवस्था के खिलाफ सड़कों पर काला बिल्ला लगाकर रोषपूर्ण प्रदर्शन करते हुए अपनी मांगो को लेकर जिलाधिकारी और आरक्षी अधीक्षक को अपना ज्ञापन सौपा। मालुम हो की बिगत सात दिन पहले शहर के मशहूर चिकित्सक और हार्ट केयर क्लीनिक के मालिक डॉ आई डी सिंह से अपराधियों ने एक करोड़ की रंगदारी की मांग की थी नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दी थी ,डॉ को दो-दो बार धमकी मिल चुकी है,साथ ही उसी दिन शहर के एक और डॉ ब्रजेश कुमार को 20 लाख देने की धमकी एवं कोशी पैथोलोजी के नवीन सिंह से 10 लाख रुपये रंदारी की मांग की गई थी | आइएमए अध्यक्ष डा. जितेंद्र कुमार,डॉ० अजय कुमार सहित अन्य ने कहा की अपराधियों का पुलिस के पकड़ से बाहर रहने से सभी चिकित्सकों में भय का माहौल बना हुआ है। चिकित्सक अब अपनी सुरक्षा को लेकर खासे परेशान है,जब पुलिस सुरक्षा देने में नाकम है तो ऐसे में  हम सबो को अपनी सुरक्षा खुद करने के लिए हथियार की अनुज्ञप्ति दी जाए ताकि पुलिस के भरोसे न रहकर खुद अपनी सुरक्षा कर सके। शंकर चौक से पैदल मार्च करते हुए चिकित्सकों का दल सहरसा पुलिस ऑफिस तक गया,उसके बाद चिकित्सको का एक शिष्टमंडल सहरसा एसपी विनोद कुमार से मिलकर अपनी बात रखे | वही पुलिस कप्तान बिनोद कुमार ने कहा कि हाल फिलहाल में जो भी मामला दर्ज किया गया है | उसका हमलोग गहराई से अनुसन्धान कर रहे है। डॉक्टरों का डिमांड है कि हथियार का लाइसेंस मिले ,उसके लिए मैंने जिलाधिकारी को ब्यक्तिगत तौर पर अनुरोध किया है,और चिकित्सकों से भी कहा गया है की आप अपने स्तर से भी डी०एम से अनुरोध करे |एक सवाल – क्या डॉ हथियार के बल पर अब मरीजों का इलाज करेंगे ,तो उनका कहना था कोई भी आदमी को अपना अधिकार है कि अपने जान माल की सुरक्षा के लिए अपना हथियार रख सकते है। जब भी कोई बात होती है उसमे पुलिस त्वरित कारवाई करती है |

वही जिलाधिकारी विनोद सिंह गुंजियाल कहते है कुछ डॉ को रंगदारी के लिए फोन आए थे ,उस संदर्भ में डॉ की डिमांड थी शीघ्र करवाई हो ,तो एस.पी साहब को इस सम्बन्ध में निर्देशित किया जायेगा ,और जो भी केसेज है उसमे तीव्र करवाई के लिए डॉ को आश्वाशन दिया गया है और उम्मीद है पुलिस डिपार्टमेंट इसमें शीघ्र करवाई करेगा। लाइसेंस की प्रक्रिया है कि जिस ब्यक्ति को लाइसेंस की आवश्यकता है ,खतरे को देखते हुए उसमे कोर्ट में सुनवाई  उपरांत ही उनको लाइसेंस देने की करवाई की जाती है। उसी प्रक्रिया का पालन करते हुए जो योग्य पाए जायेंगे उनको लाइसेंस दिया जायेगा।

इस पैदल मार्च में डॉ० भुवन सिंह,डॉ० के.एस गुप्ता,डॉ०विशाल गौरव,डॉ० एस०के आज़ाद,डॉ० विजय शंकर,डॉ० राजीव रंजन सिंह,डॉ० बरुण कुमार,डॉ० अभिषेक राजा,डॉ० पी भाष्कर,डॉ० अबनिश कर्ण,डॉ० रंजेश कुमार ,डॉ० गोपाल शरण सिंह.डॉ० आई०डी सिंह,डॉ० ब्रजेश कुमार  सहित अन्य चिकित्सक मौजूद थे |