शांतिपूर्ण सरस्वती पूजा संपन्न,नम आँखों से दी विदाई

2001

सहरसा- नम आँखों से विद्या की देवी माँ सरस्वती को पुरे जिले में मुर्ती विर्सजन के साथ शांति-पुर्ण माहौल में धुम धाम से संपन हो गई। हंस वाहिनी मां सरस्वती को छात्र-छात्राओ,युवओं ने नम आंखों से विदाई दी। जिला मुख्यालय के अलावे पतरघट,महिषी,नवहट्टा,सत्तरकटेया,सोनबर्षा राज,सोनबर्षा कचहरी,कहरा,बनगाँव,मुरलीबसंतपुर,सिमरीब्खीत्यार पुर अनुमंडल क्षेत्र के सभी प्रखंडो सहित पुरे जिले के विभिन्न निजी व सरकारी शिक्षण संस्थानों एवं पूजा क्लबों आदि में पुजा को ले स्थापित प्रतिमाओं का विर्सजन धुम धाम से किया गया। मुर्ती विर्सजन से पूर्व गाजे बाजे के साथ अधिक्तर क्लबों व विद्यालयों द्वारा विर्सजन जुलुस निकाला गया और माता की जय जयकार करते हुए युवा संगीत के धुन पर खुब थीरके और अबीर गलाल उडाये। विर्सजन ट्रक, टेम्पो व ठेला आदि पर साज-सजा के साथ माता की प्रतिमा को सजाया गया था। जुलुस के उपरांत जिला मुख्यालय सहित विभिन्न प्रखंडों के नदी, तालाबों में माँ की प्रतिमा को विर्सजित किया गया। विर्सजन के दौरान एतिहात के तौर पर पुलिस बलों की भी तैनाती की गई थी।मालूम हो की इस वर्ष जिला प्रशासन ने पूजा को लेकर काफी चाक चोबंद व्यवस्था रखते हुए पूजा क्लबो सहित शिक्षण संस्थानों को लाइसेंस देने का काम की थी,साथ शाम के बाद डी०जे पर रोक लगाई थी | हालाकी कुछ युवा क्लबों में सोमबार को भी मूर्ति विसर्जन की सुचना मिली है,जो भी हो शांति-पूर्वक सरस्वती पूजा सम्पन हुआ