तन्हाई में जंजीरो से बातें कर लेता हूँ ……

1289
ब्रहमचारी जी

सहरसा -कोशी के प्रखर स्वतंत्रता सेनानी पदमानंद सिंह ब्रहमचारी जी की श्रदांजलि सभा मंगलबार को रेडक्रॉस सोसायटी के सभागार में शिक्षाविद डॉ० रुद्रप्रताप सिंह की अध्यक्षता और सीपीआई सचिव ओमप्रकाश नारायण के संचालन में मनाया गया,कार्यक्रम के शुभारंभ ब्रहमचारी जी के तैल चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर किया गया,उसके बाद डॉ० रुद्रप्रताप सिंह ने ब्रहमचारी जी के जीवन चरित्र और संघर्ष पर विस्तार से प्रकाश डाला,सोनबर्षा कॉलेज के प्राचार्य डॉ० के एस ओझा,प्राचार्य डॉ० बालगोविन्द सिंह,कांग्रेस जिलाध्यक्ष विद्यानंद मिश्र,डॉ० रामनरेश सिंह प्रदेश उपाध्यक्ष भाजपा  आदि ने उन्हें 1942 के क्रांति का निर्भीक यौद्धा,निस्वार्थ समाज सेवक गाँधीवादी बताते हुए कहा की उनके निधन से त्याग,संघर्ष,बलिदान और ईमानदारी के साथ राजनितिक युग का अंत हो गया,सही अर्थो में कोशी के अभिभावक और मार्गदर्शक थे | निकट भविष्य में जिसकी क्षति-पूर्ति असम्भव है |वक्ताओ ने कहा की ब्रह्मचारी जी महात्मा गाँधी,राजेंद्र बाबु,अनुग्रह ना० सिंह,और जे बी कृपलानी के भी करीबी रहे|जो समाज को देने का काम किया लेने का नहीं| श्रदांजलि सभा को गुणेश्वर सिंह,नागेश्वर यादव,मो० नईमउद्दीन,विरेन्द्र सिंह,गोपाल झा,प्रो० मदनेश्वर मदन,प्रो० कमलेश,प्रो० दिलीप कुमार सिंह,अजय सिंह,बबलू,बिष्णुदेव सिंह,सत्यप्रकाश,मुकेश कुमार सिन्हा आदि ने भी उन्हें कोशी का सच्चा सपुत बताया और भाव-भीनी श्रद्दासुमन अर्पित किया | समारोह में पटना से आए गजल गायक सैयद तफ्सीर हुसैन माणी ने पुर्व सांसद आनंद मोहन रचित गजल तन्हाई में जंजीरों से बातें कर लेता हूँ…दीवारों को दर्द चुप हो लेता हूँ …..गाया वही भागलपुर के शायर जावेद अख्तर और तासीर हुसैन ने ब्रहमचारी जी की शान में अपनी शायरी पेश कर श्रद्दा सुमन अर्पित किया| सभा में प्रो० एह्सान शाम,अरविन्द झा नीरज,खुशबु कुमारी,शंभू सिंह मुख्यमंत्री, प्रदेश महासचिव (हम) राजन आनंद सहीत अन्य ने भी  श्रद्दा सुमन अर्पित किया |  पुर्व सांसद लवली आनंद ने अतिथियों का स्वागत किया एवं छात्र हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष चेतन आनंद ने लोगो का धन्यबाद ज्ञापन किया |