रेल जी०एम० पर टिकी है उम्मीद

1935

सहरसा रेलवे स्टेशन को  ए ग्रेड  का दर्जा प्राप्त रेल मंडल समस्तीपुर से  रहने के बाद भी  सहरसा जंक्शन पर यात्रियों के मूलभूत सुबिधाओ का घोर अभाव है. केंद्र में  नई सरकार बनने के बाद  से ही क्षेत्र के लोगों की उम्मीद  बढ़ती गयी. 
हालांकि इन सबों के बीच जंक्शन पर व्याप्त यात्री सुविधा की खाई लगातार बढ़ती ही गयी. जंक्शन पर गाहे-बगाहे रेल अधिकारियों का दौरा भी होता रहा, लेकिन अपेक्षित सुधार सरजमीं पर नही उतर सका. जीएम एके मित्तल से लोगों को उम्मीदें हैं कि वह कोसी क्षेत्र में रेलवे के विकास को लेकर तत्परता दिखायेंगे. ज्ञात हो कि 5 फरवरी को रेल जीएम एके मित्तल वार्षिक जायजा लेने सहरसा पहुंचेंगे. ऐसे में जीएम से बदहाल रेल को पटरी पर लाने की उम्मीद लोग लगाये ह
सहरसा जंक्शन पर बुजुर्ग, विकलांग, महिला, सांसद, विधायक, पूर्व सांसद, पूर्व विधायक व पत्रकारों के लिए अलग आरक्षण काउंटर की व्यवस्था नहीं होना लोगों को खटकता है. जबकि अन्य जगहों पर रेलवे द्वारा इस प्रकार की सुविधा यात्रियों को उपलब्ध करायी जा रही है. यह सुविधा बहाल होने से ऐसे विशिष्ट लोगों को लंबी लाइन से निजात मिल सकेगी.