रैली

1765

 भुक्खड़-फक्कर की फौज ने की अब शोर । गद्दार-लुटेरा ने फूंका,देखो रैली पर 100 करोड़ ।। बस ट्रक,ट्रैक्टर और जीप कार देखो रेल भी जप्त रहा । गुंडों-अपराधी से शासक,शासन भी संतप्त रहा ।। कुछ SP और DM भी DSP और थानेदार । चमचो-अपराधी के संग,पकड़ रहे थे जीप-कार अपराधी के संग आज, शामिल होते जो अधिकारी । निश्चय वे है चोर-भ्रष्ट,हेहर,निर्लज और व्यभिचारी।। चलो चले फिर से रण मे

रचना- डॉ मनोरंजन झा