तीन सौ गरीबों के बीच खाद्य सामग्री का वितरण !

8

गजाधर सलारपुरिया के पुण्यतिथि पर

खगडिया : मुकेश कुमार मिश्र :खगडिया जिले के परवत्ता प्रखंड के लगार पंचायत अंतर्गत बिशौनी गांव में स्व0  गजाधर सलारपुरिया की 14 वीं पुण्य स्मृति के  अवसर पर उनकी  धर्म पत्नी मसो० शारदा देवी सलारपुरिया के वित्तीय सहायता के  फलस्वरूप कौशल  कुमार मिश्र उर्फ पप्पु मिश्र के द्वारा 300 से अधिक गरीबों के बीच खाद्य सामग्री चावल दाल नमक और आलू के पैकेट का वितरण किया गया।इस आयोजन में प्रति परिवार पाँच किलो चावल,एक किलो दाल,एक किलो आलू तथा एक किलो नमक प्रति परिवार दिया गया।इसमें उदयपुर,बिशौनी,सलारपुर, खजरैठा  के अति निर्धन परिवारों का चयन किया गया था । इस मौके पर धर्मेन्द्र मिश्रा उर्फ महंथजी के अलावा कई लोग  मौजूद थे।

समृद्ध है सलारपुरिया का इतिहास
सलारपुरिया ग्रुप के संस्थापक गजाधर जी सलारपुरिया का जन्म जिले के सलारपुर गांव के एक सम्पन्न किसान एवं व्यवसायी परिवार में हुआ था।चार्टर्ड एकाउन्टेन्ट की पढाई के बाद उन्होंने सलारपुरिया जाजोदिया एण्ड कंपनी नामक फर्म का गठन किया।भागलपुर में इस कंपनी ने रावतमल नोपानी छात्रावास बनवाया।सलारपुर गांव में प्रतिष्ठित जगन्नाथ राम उच्च विद्यालय तथा मंदिर आदि का निर्माण कराया।बाद के दिनों में कंपनी का विस्तार कलकत्ता तथा बंगलोर में हो गया जहाँ कंपनी ने महाराजा अग्रसेन अस्पताल का निर्माण किया।

वर्ष 1990 के दशक में सलारपुर से इस परिवार के सभी लोग बेहतर व्यवसाय की प्रत्याशा में यहाँ से स्थायी रूप से पलायन कर गये।लेकिन इलाके के प्रति लगाव के कारण आज भी जनकल्याणकारी कार्यक्रम का संचालन करने के लिये समय समय पर धनराशि उपलब्ध कराते हैं।इस कंपनी में आज की तिथि में इलाके के हजारों युवाओं को नौकरी मिली है।यह कंपनी इलाके के युवाओं का सबसे बड़ा नियोक्ता है।

वर्ष 2003 में जी डी सलारपुरिया का निधन हो गया।लेकिन तबतक यह कंपनी विनिर्माण के क्षेत्र में बहुराष्ट्रीय कंपनी बन चुकी थी।आज देश के विभिन्न राज्यों के अलावा 20 देशों में कंपनी का करोबार चलता है।सलारपुर, बिशौनी तथा इलाके के लोगों को अपने इन पूर्वजों पर गर्व करते है ।