संवैधानिक अधिकारों का गला घोंट रही सरकार – पंकज

3

सुपौल :पूर्ण वेतनमान ,नियमित शिक्षकों के तरह सेवा शर्त, उपशास्त्री डिग्री धारी को वेतन पर रोक,लंबित वेतन भुगतान , जी ओ बी प्रशिक्षित अंतर वेतन का भुगतान,सातवें वेतनमान के अनुकूल पे फिक्सेशन व सेवा पुस्तिका का संधारण सहित अन्य समस्याओं को लेकर बिहार पंचायत-नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ प्रखंड इकाई छातापुर की बैठक मध्य विद्यालय छातापुर में प्रखंड अध्यक्ष महेश कुसयैत की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ।

बैठक में मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद जिलाध्यक्ष पंकज कुमार सिंह ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि समान कार्य समान वेतन जैसे संवैधानिक अधिकारों को लागू न कर सरकार संविधान का गला घोंट रही है।कहा कि संघ से वार्ता में सेवा शर्त लागू करने की बात करने वाली सरकार, दो वर्षों में भी सेवा शर्त नही लागू कर तानाशाही और वादाखिलाफी का परिचय दिया है।शिक्षकों को जहां पांच माह से वेतन नही दिया है,वही बच्चों को भी सत्र शुरुआत के पांच माह बाद भी पुस्तक मुहैया नही करा पायी है।कहा कि शोषण और तानाशाही पराकाष्ठा पर है।ऐसे में सरकार के खिलाफ शिक्षकों में गुस्सा भड़काना लाज़मी है।

जिला कोषाध्यक्ष अनिल कुमार ने कहा कि माननीय उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद भी उपशास्त्री डिग्रीधारी के वेतन पर रोक लगाना असंवैधानिक है।अनुमंडल संयोजक पिंकू दास ने कहा कि एस एस ए मद्य और जी ओ बी मद्य से आच्छादित प्रशिक्षित शिक्षकों का अंतर वेतन आवंटन के बाद भी भुगतान नही होना चिंता का विषय है।

सोसल मीडिया प्रभारी नरेश कुमार निराला ने कहा कि सातवें वेतनमान के अनुकूल अभी तक पे फिक्सेशन व सेवा पुस्तिका संधारण न होना दुर्भाग्यपूर्ण है।बैठक में निर्णय लिया गया कि सभी समस्याओं के समाधान की दिशा में विभागीय पदाधिकारी गंभीर नही हुए,तो संघ आंदोलन के लिए बाध्य होगा।

इस मौके पर प्रखंड सचिव रजाउर रहमान,अखिलेश बहादुर यादव प्रवीण कुमार,गुणानंद सिंह,पीयूष कुमार,प्रेम पाठक,अलख कुमार अकेला,चंदेश्वर तत्मा,अशौक कुमार मंडल,जवाहर कुमार,बीरेंद्र मंडल,संतोष मल्लिक आदि मौजूद थे